कांग्रेस की ’अजेय सीटेंÓ, सांगली, नंदुरबार
Published on

छीनने को बेताब मुंडे दिल्ली. कांग्रेस की दोनों अजेय सीटों सांगली व नंदुरबार को छीनने के लिए इस बार भाजपा के वरिष्ठ नेता गोपीनाथ मुंडे ने कमर तो कस ली है लेकिन अभी तक कोई दमदार उम्मीदवार पार्टी छांट नहीं पाई है. बताया जा रहा है कि कोयला रा’यमं˜ाी प्रतीक पाटिल के खिलाफ भाजपा ने इस बार संभाजी पवार या संजय पाटिल में से किसी को उतारने का मन बनाया है तो दूसरी ओर केंद्रीय मं˜ाी व लोकसभा के वर्तमान वरिष्ठतम सांसद मा‡िाकराव गावित के खिलाफ प्रदेश में राकां मं˜ाी डा. विजय गावित के भाई शरद को कमल छाप से लडऩे के लिए टटोला जा रहा है. Šयान रहे कि शरद गावित ने 2009 में सपा टिकट पर लड़ते हुए 30 प्रतिशत वोट लेकर भाजपा उम्मीदवार सुहास नटवड़कर(25.58 प्रतिशत) को तीसरे स्थान पर Šाकेल दिया था और तब मा‡िाकराव 36 प्रतिशत वोट लेकर 40843 वोटों से जीत सके थे. ० सांगली सीट स्व. वसंतदादा पाटिल परिवार का अजेय गढ़ मानी जाती है. दादा तो वहां से निर्वाचित होते ही थे प्रतीक के पिता स्व. प्रकाश पाटिल भी वहां से चुने गए. उनके देहांत के बाद से प्रतीक वहां सांसद हैं. ० कुछ माह पहले अ‘छे बहुमत से शहरी निकाय चुनाव में कांग्रेस को विजय दिलाकर वे अपनी फिर से जीत को लेकर आश्वस्त रहे हैं. लेकिन भाजपा नेताओं ने भी कमर कस ली है और वहां नरेंद्र मोदी की सभा भी इसी मकसद से रखी जा रही है. ० कोयला रा’यमं˜ाी के छोटे भाई का विवाह 23 फरवरी की दोपहर सांगली में है और यह उˆसव भी एक तरह से चुनाव प्रचार के अवसर में बदल जाएगा. प्रतीक ने 2004 में भाजपा के दीपक शिंदे को 82 हजार वोटों से हराया था जिसके कार‡ा पार्टी ने 2009 में निर्दलीय हैसियत से उतरे मराठा नेता ƒाोरपड़े को समर्थन दिया. लेकिन वे 40 हजार वोटों से हार गए थे.